बैंक क्या है इसके प्रकार और महत्व (Bank in Hindi)

आप लोग कभी न कभी बैंक जरुर गए होंगे और लगभग सभी का बैंक में खाता भी होता पर क्या आप जानते हैं आखिर ये Bank Kya Hai In Hindi, बैंक कितने प्रकार का होता है, बैंक के कार्य, बैंक की विशेषताएं, बैंक का महत्व, बैंक के फायदे और नुकसान क्या हैं.

अगर आपको इन सब की जानकारी नहीं है तो आप एकदम सही ब्लॉग पर आये हैं. इस लेख के माध्यम से हमने आपको बैंक के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से बताई है. इस लेख में आपको बैंक के बारे में बहुत ही उपयोगी जानकारी मिलने वाली है इसलिए इस लेख को पूरा पढ़ें ताकि आपसे कोई जानकारी मिस न हो जाये.

बैंक क्या है (अर्थ और परिभाषा) What is Bank in Hindi

बैंक एक ऐसा वित्तीय संस्थान होता है जहाँ जो लोगों के पैसों को अपने पास सुरक्षित रखती है और जरुरत पड़ने पर लोगों को Loan मुहैया करवाती है. इसके अलावा बैंक में खाता खोलकर खाताधारक पैसे का लेन देन कर सकते है.

बैंक जनता के पैसों को ब्याज, सुरक्षा आदि प्रकार की सेवाएँ देकर जमा करती है और जरूरतमंद लोगों को उनकी आवश्यकतानुसार निश्चित ब्याज दर पर लोन देती है.

बैंक क्या है इसके प्रकार और महत्व हिंदी में (What is Bank in Hindi)

बैंक एक कंपनी भी हो सकती है, संस्था भी और व्यक्ति भी जो जनता के पैसों के लेन – देन का कार्य करती हैं.

बैंक के प्रकार (Type of Bank in Hindi)

अलग – अलग कामों को करने के लिए भारतीय बैंक भी अलग – अलग हैं. कुछ प्रमुख बैंक के प्रकार निम्न हैं –

1 – Scheduled Bank (अनुसूचित बैंक)

अनुसूचित बैंक Reserve Bank of India Act  1934 के दूसरी अनुसूचित के अंतर्गत आते हैं. इस प्रकार के बैंक के पास प्रदत पूंजी न्यूनतम 5 लाख होती है. अनुसूचित बैंक RBI से बैंक rate पर लोन ले सकते हैं.

2 – Commercial Bank (वाणिज्य बैंक)

वाणिज्य बैंक को व्यवसायिक बैंक या व्यापारिक बैंक भी कहा जाता है. इस प्रकार के बैंक लाभ कमाने वाले बैंक होते हैं. Commercial Bank का मुख्य कार्य जनता के पैसे को जमा करना और जनता तथा सरकार को लोन देना है. आधुनिक आर्थिक संगठन में ये बैंक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

Commercial Bank चार प्रकार के होते हैं –

  • Public Sector Bank (सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक) –भारत में पुरे बैंकिंग के बिजनस में लगभग 75 प्रतिशत से ज्यादा का हिस्सा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का ही है. SBI भारत का सबसे बड़ा Public Sector Bank है.इन बैंकों में अधिकांश हिस्सेदारी सर्कार की होती है.
  • Private Sector Bank (निजी क्षेत्र के बैंक) – इस प्रकार के बैंक में अधिक हिस्सेदारी सरकार की न होकर शेयरधारकों की होती है. इन बैंकों के नियम कानून भी RBI के द्वारा ही तय किये जाते हैं.
  • Foreign Bank (विदेशी बैंक) – विदेशी बैंक वे बैंक कहलाते हैं जिनका मुख्यालय भारत से बाहर होता है. इस प्रकार के बैंकों को दोनों देशों के नियम कानून का पालन करना होता है. एक जिस देश में ये काम कर रहे हैं और दूसरा जिस देश में इनका मुख्यालय है. जैसे कि City Bank
  • Regional Rural Bank (क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक) – इस प्रकार के बैंक विभिन्न राज्यों में क्षेत्रीय स्तर पर संचालित होते हैं.क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक को मुख्य रूप से सीमांत किसान, श्रमिक, समाज में कमजोर वर्ग के लोगों की सुविधा के लिए स्थापित किया गया है.

3 – Co – Operative Bank (सहकारी बैंक)

सहकारी बैंक को Cooperative Act 1912 के तहत स्थापित किया गया है. सहकारी बैंक को किसान बैंक भी कहा जाता है. इन बैंकों का मुख्य काम किसानों को Fund प्रदान करवाना होता है. सहकारी बैंक No Profit No Loss के सिधांत पर काम करते हैं.

किसान सहकारी बैंक के द्वारा अल्पकालीन ऋण ले सकता है जिसके द्वारा वह कृषि उपकरणों, बीज, उर्वरक खरीद सकता है. भारत में ये बैंक बहुत ही उपयोगी काम कर रहे हैं.

4 – Industrial Bank (औद्योगिक बैंक)

भारत में बहुत कम औद्योगिक बैंक हैं पर विदेशों में बहुत सारे औद्योगिक बैंक होते हैं, इस प्रकार के बैंक का मुख्य कार्य उद्योगों में इस्तेमाल होने वाले उपकरणों को खरीदने के लिए लोन देने का होता है

5 – Exchange Bank (विनिमय बैंक)

इस प्रकार के बैंकों का मुख्य कार्य विदेशी मुद्रा को खरीदना और बेचना होता है. इन बैंकों के द्वारा आप अपनी मुद्रा को किसी विदेशी मुद्रा में बदल सकते हैं.

6 – Development Bank (विकास बैंक)

 जो बैंक किसी विशेष क्षेत्र के विकास के लिए स्थापित किये जाते हैं उनको विकास बैंक कहते है जैसे कि कृषि, बिज़नस. इस बैंक का मुख्य काम अपने सेक्टर को लोन देना होता है जिससे उस सेक्टर का जल्दी विकास हो सके. यह बैंक Long Term लोन प्रदान करवाती है.

7  – Central Bank (केन्द्रीय बैंक)

केन्द्रीय बैंक वे बैंक होते हैं जिनपर सरकार का स्वामित्व होता है, लगभग सभी देशों में एक केन्द्रीय बैंक होता है जैसे भारत में RBI. केन्द्रीय बैंक ही देश के सारे बैंकों को संचालित करने के दिशा निर्देश देती है.

बैंक खाता कितने प्रकार का होता है

बैंक अकाउंट मुख्य रूप से चार प्रकार के होते हैं –

1 – Current Account (चालू खाता)

इस प्रकार के अकाउंट में Cash Flow बहुत तेज होता है मतलब कि बड़ी मात्रा में रकम बैंक अकाउंट में आती है और निकाली जाती है.

2 – Saving Account (बचत खाता)

सेविंग अकाउंट बचत के लिए बनाये जाते हैं. इनमें पैसे जमा तो होते हैं पर पैसे निकालने की दर बहुत कम होती है. इस प्रकार के अकाउंट में बैंक की तरफ से ब्याज मिलता है.

3 – Fixed Deposit Account (निश्चित जमा खाता)

इस प्रकार के अकाउंट में आप एक खास अवधि के लिए पैसे जमा कर सकते हैं. FD Account में आप समय से पहले पैसे नहीं निकाल सकते हैं और इस अकाउंट से आप एक ही बार पैसे निकाल सकते हैं.

4 – Recurring Deposit Account (आवर्ती जमा खाता)

RD Account में एक निश्चित राशि को नियमित रूप से जमा किया जाता है. इस प्रकार के खाते में एक विशेष राशि हर महीने एक विशेष अवधि के लिए जमा की जाती है और समय अवधि पूरी होने पर वह राशि ब्याज के साथ भुगतान कर दी जाती है.

बैंक के कार्य (Work of Bank in Hindi)

बैंक के बहुत सारे कार्य होते हैं जिनमें से बैंक के कुछ प्रमुख काम निम्न हैं –

  • बैंक लोगों के पैसों को सुरक्षित जमा करता है या Deposits करता है. यह बैंक का सबसे महत्वपूर्ण कार्य है. हर कोई व्यक्ति अपनी भविष्य की आवश्यकतों की पूर्ति के लिए बैंक में धन जमा करवाता है.
  • बैंक जरुरतमंद लोगों को Loan देता है. जरुरत के अनुसार बैंक लोगों को अनेक प्रकार के लोन उपलब्ध करवाता है.
  • बैंक विश्व के किसी भी देश में पैसे भेज सकता है, बैंक ऑनलाइन बैंकिंग, डाफ्ट और चेक के माध्यम से विश्व के किसी भी कोने में पैसे भेज सकता है.
  • अधिकांश बैंक अपने ग्राहकों को लाकर्स की सुविधा देते हैं जिसमें ग्राहक महत्वपूर्ण दस्तावेज, कीमती सामान को सुरक्षित रख सकते हैं.
  • बैंक की सबसे आम सेवा में से एक बैंक खाते हैं. कोई भी व्यक्ति अपनी आवश्यकतानुसार किसी भी प्रकार का अकाउंट बैंक में खोल सकता है. जैसे कि Current Account, Saving Account, Salary Account आदि.
  • बैंक अपने कस्टमर को डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, Online बैंकिंग, चेकबुक आदि प्रकार की सुविधा प्रदान करवाता है जिससे लोगों को लेन – देन करने में आसानी होती है.
  • बैंक सरकार को वित्तीय सलाह देते हैं और सरकार के कामों में सहयोग प्रदान करते हैं.

इन सब के अलावा भी बैंक के अनेक दुसरे काम भी होते हैं पर बैंक के प्रमुख काम यही हैं.

बैंक के एजेंसी कार्य क्या है

बैंक एक प्रकार से अपने कस्टमर के लिए एक एजेंट होता है और एजेंट के तौर पर ये कस्टमर के बहुत सारे काम करते है जैसे कि –

  • Fund Transfer करना
  • Cheque की Collection करना
  • सामयिक भुगतान करना
  • Portfolio प्रबंधन करना

ये सभी बैंक के एजेंसी कार्य हैं.

बैंक के पांच कार्य बताइए

आधुनिक बैंक के कार्य निम्न  हैं –

  • लोगों के पैसों को सुरक्षित जमा करना
  • जरुरत पड़ने पर लोगों को निश्चित ब्याज पर ऋण देना
  • अपने कस्टमर को लॉकर की सुविधा देना
  • लोगों की लेन – देन की सुविधा को आसान बनाना
  • सरकार के कामों में सहयोग देना

बैंक का महत्व (Importance of Bank in Hindi)

बैंकों का महत्व निम्न प्रकार से है –

  • जनता के बचत के पैसों को जमा करना जिसे बैंक देश के विकास के कार्यों में लगाती है.
  • देश के केन्द्रीय बैंक मुद्रा प्रणाली का संचालन करते हैं.
  • देश के आर्थिक विकास में बैंक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं.
  • बैंक जनता के पैसों को ब्याज, सुरक्षा, और अन्य सेवाएँ देकर जमा करते हैं और जरुरत मंद लोगों को वह पैसे Loan के रूप में उधार देते हैं.
  • देश के विकास कार्यों में बैंकों की भागीदारी महत्वपूर्ण होती है.अनेक प्रकार के क्षेत्रों में विकास के लिए अनेक प्रकार के बैंक स्थापित किये गए हैं.
  • अपने ग्राहकों को बैंक अनेक प्रकार की सुविधा देते हैं जिनसे उनके लेन – देन की प्रक्रिया आसान बन सके.

बैंक की विशेषताएं  (Feature of Bank in Hindi)

बैंक की प्रमुख विशेषताएं निम्न हैं –

  • बैंक पैसे से सम्बंधित सभी प्रकार की लेन – देन करता है. बैंक में आप बिना किसी जोखिम के पैसे जमा कर सकते हैं और जरुरत पड़ने पर एक निश्चित ब्याज दर पर पैसे लोन ले सकते हैं.
  • बैंक लोगों को जरुरत पड़ने पर अनेक प्रकार के लोन देता है.
  • बैंक अपने ग्राहकों को भुगतान और withdrawal की सुविधा प्रदान करवाता है. ग्राहक डेबिट कार्ड के द्वारा अपने शहर में किसी भी ATM machine से पैसे निकाल सकता है, ऑनलाइन payment कर सकता है और क्रेडिट कार्ड के द्वारा discount के साथ खरीददारी कर सकता है.
  • आधुनिक समय में लगभग सभी बैंक अपने ग्राहकों को इन्टरनेट बैंकिंग की सुविधा प्रदान करवा रहे है, लगभग सभी बैंक अपनी एप्प के द्वारा लोगों को ऑनलाइन सुविधा दे रहे हैं.
  • बैंक अपने ग्राहकों को अनेक प्रकार की सुविधा देता है जिससे ग्राहक बैंक के साथ बने रहें और दुसरे लोग भी बैंक के साथ जुड़ें.
  • बैंक की शाखाएं अनेक शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में उपलब्ध है जिससे कि वह अपने साथ अधिक लोगों को जोड़ सके.बैंक से सम्बंधित किसी भी समस्या के लिए ग्राहक अपने नजदीकी शाखा में जा सकता है.
  • तकनीकी के बढ़ने के साथ – साथ बैंक भी अपनी कार्यक्षमता को बढ़ा रहे हैं जिससे उनके ग्राहकों को किसी भी प्रकार की लेन – देन या बैंक से सम्बंधित किसी भी काम में आसानी हो.
  • बैंक एक व्यक्ति, कंपनी और संस्था हो सकता है.

बैंक के फायदे (Advantage of Bank in Hindi)

बैंक के होने से लोगों को अनेक प्रकार की सुविधा मिलती है जो कि निम्न प्रकार से हैं –

  • बैंक पैसे जमा करने पर भी ब्याज देता है, पैसे बढ़ाने का बैंक एक अच्छा जरिया है.
  • बैंक में पैसे जमा करवाने पर भविष्य की जरूरतों के लिए आपके पैसों की बचत हो जाती है.
  • अधिकतर सभी क्षेत्रों में बैंक की शाखाएं होने से लोगों को अपनी बैंक से सम्बंधित समस्या के लिए मीलों दूर नहीं चलना पड़ता है.
  • बैंक की मदद से लोग जरुरत पड़ने पर लोन ले सकते हैं, बैंक अधिकतर एक निश्चित ब्याज दर के साथ लोगों को लोन प्रदान कर देते हैं.
  • बैंक क्रेडिट कार्ड की सुविधा के द्वारा आप खाते में पर्याप्त रूपये न होने के बावजूद भी खरीददारी कर सकते हैं.
  • डेबिट कार्ड के द्वारा आप बिना बैंक में जाये पैसों को ATM machine से निकाल सकते हैं.
  • बैंक की एप्प के द्वारा आप अपने बैंक खाते की साड़ी जानकारी अपने मोबाइल में ही देख सकते हैं.
  • बैंक की कस्टमर केयर नंबर पर कॉल करके आप अपने किसी भी प्रकार के समस्या का समाधान पा सकते हैं.
  • बैंक के द्वारा आप विदेशों से भी पैसों की लेन – देन कर सकते हैं.

इन्हें भी पढ़े 

बैंक के नुकसान (Disadvantage of Bank)

जहाँ एक ओर बैंक के बहुत सारे फायदे हैं वहीँ दूसरी ओर बैंक के कुछ नुकसान भी हो सकते हैं जैसे कि –

  • बैंक के Bankrupt (दिवालिया) होने की संभावना रहती है. जब बैंक के पास अपने ग्राहकों को भुगतान करने के लिए पर्याप्त धन नहीं होता है तो उस स्थिति में बैंक दिवालिया हो सकते हैं. बैंक के दिवालिया होने की स्थिति में लोग अपने पैसे को खो देंगे.
  • जब से इन्टरनेट बैंकिंग बड़ी है लोगों के साथ धोखा धडी और डकैती के केस भी सामने आये हैं. बहुत सारे लुटेरों ने इन्टरनेट के माध्यम से लोगों के करोड़ों रूपये की चोरी की है.
  • कभी – कभी बैंक को लोगों को लोन देने पर भी जोखिम उठाना पड़ता है, अधिकतर असुरक्षित लोन में. ऐसे में बहुत बार बैंक के साथ ही धोखा – धडी हो जाती है.

FAQs: बैंक के बारे में सामान्य प्रश्न

बैंक क्या कार्य करती है?

बैंक एक वित्तीय संस्था है जो पैसों के लेन –देन का कार्य करती है.

बैंक के आय का मुख्य श्रोत क्या है?

बैंक अनेक कंपनी, उद्योगपति, व्यक्तियों को लोन देती है जिसे बैंक ब्याज के साथ वापस लेती है यही ब्याज बैंक की आय का मुख्य श्रोत है.

किस भारतीय बैंक ने अपना पहला ओवरसीज बैंक खोला था?

Bank of India ने 1946 में लन्दन में पहला ओवरसीज बैंक खोला था.

भारत का सबसे पुराना पब्लिक सेक्टर बैंक कौन सा है?

भारत का सबसे पुराना पब्लिक सेक्टर बैंक इलहाबाद बैंक है.

भारत का सबसे बड़ा बैंक कौन सा है?

भारत का सबसे बड़ा बैंक State Bank of India है.

निष्कर्ष: बैंक क्या है बैंक के प्रकार

इस लेख के माध्यम से हमने आपको Bank Kya Hai के बारे में विस्तृत जानकारी देने की कोशिस की है जिससे आपके बैंक से सम्बंधित सारे Confusion दूर हो सकें और आपको बैंक के बारे में सही जानकारी मिल सके.उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख बैंक क्या है बैंक के प्रकार और बैंक का महत्व जरुर पसंद आया होगा इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर जरुर करें.

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम रणजीतसिंह है और मै एक प्रोफेशनल ब्लॉगर और एक Youtuber हूँ. LoanKaise.com ब्लॉग पर हम आपको विभिन्न प्रकार के लोन विकल्पों के बारें में विस्तार से बताते है. इस ब्लॉग पर हम किसी भी प्रकार का लोन नहीं देते, बस लोन सम्बंधित सही जानकारी आपके साथ शेयर करते है. ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद!

Leave a Comment